महज दो साँस की दूरी पे जिंदगी और मौत है…

महज दो साँस की दूरी पे जिंदगी और मौत है|

आज सफर ख़ुशनुमा तो कल परेशानी बहुत है||

दो पल में बदलते हालात क्यों ग़फ़लत में जिए|

बाद बस रह जाएंगे जो भी अफसाने है किए||

बेवज़ह की तू तू मैं मैं से क्यों मन में खोट है|


जी ले हँसी ख़ुशी तो यही हासिल फिरदौस है||

क्योकी कल का क्या पता……
महज दो साँस की दूरी पे जिंदगी और मौत है||

Written By : Neeraj Saxena

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *