Category: कविताएँ

मैं हैरान था मैं बेहद परेशान था – Very Touching Poem in Hindi

मैं हैरान था मैं बेहद परेशान था| जिंदगी के हर मोड़ इम्तहान था|| वक्त के साथ बदलते हुए हालात| दिन पे दिन एक नये मुश्किलात|| आज जिन्हें देख
Read More

यूँ ही पेड़ कहाँ उगते है, बीज ही रोपे जाते है – Motivational Poem in Hindi

यूँ ही पेड़ कहाँ उगते है, बीज ही रोपे जाते है| <br> जो अंधकार भू के सीने से अँकुरित हो जाते है||<br><br> स्वतः कुछ पाने की चाहत करना
Read More

मधुशाला-Madhushala

मृदु भावों के अंगूरों की आज बना लाया हाला, प्रियतम, अपने ही हाथों से आज पिलाऊँगा प्याला, पहले भोग लगा लूँ तेरा फिर प्रसाद जग पाएगा, सबसे पहले
Read More
error: