अदा भी है , सादगी भी है …

अदा भी है, सादगी भी है|

लाजबाब हुश्न है, आवारगी भी है|

कभी खुद को आईने  मै देखो, तो जानोगे|

क्या भावनाथ को तुमसे मोहब्बत है, और नाराजगी भी है||

-भावनाथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *