Day: March 21, 2018

आपकी मुसकुराहट

जो मुसकुरा रहा है, उसे दर्द ने पाला होगा जो चल रहा है, उसके पांव में छाला होगा बिना संघर्ष के इंसान चमक नहीं सकता, यारों जो जलेगा उसी दिए